क्या दस्तख़त दूँ अपन…

क्या दस्तख़त दूँ अपने वजूद का दोस्त
किसी के ज़हन में आऊँ और वो मुस्कुरा दे।
बस यही काफी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *