एक शायरी कभी तुम्हार…

एक शायरी कभी तुम्हारी क़लम से ऐसी भी हो

जो मेरी हो..मुझ पर हो.. और बस मेरे लिए ही हो… ?☺☺

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *