इंसान एक दुकान है;…

इंसान एक दुकान है;
और जुबान उसका ताला।
ताला खुलता है,
तभी मालूम होता है कि;
दुकान सोने की है;
या कोयले की!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *