तुझ को सोचा तो बहुत …

तुझ को सोचा तो बहुत पर लिखा कम है,
कि तेरी तारीफ़ के क़ाबिल मेरे अल्फ़ाज़ कहाँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *