मेर

हम अपने जीवन रूपी पौधे को मेहनत रूपी जल तो हर रोज देते हैं।अब फल तो मेरी मेहनत पर निरभर है।

तनवी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *