कुछ पन्ने क्या फटे …

कुछ पन्ने क्या फटे जिंदगी की
‌‌ किताब के…

ज़माने ने समझा हमारा दौर ही
बदल गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *