मयखाने से बढ़ कर कोई…

मयखाने से बढ़ कर
कोई जमीन नहीं,
जहाॅं सिर्फ कदम
लड़खड़ाते हैं,
ज़मीर नहीं…!!!

अंतरंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *