मंजिल मिलेगी भटक क…

मंजिल मिलेगी
भटक कर ही सही।

गुमराह तो वो हैं जो
घर से निकले ही नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *