चार दोस्त, दो साइकिल…

चार दोस्त, दो साइकिलें,
खाली जेब और पूरा शहर,

एक खूबसूरत दौर ये भी था
जिंदगी का…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *