वो सर-फिरी हवा थी सँ…

वो सर-फिरी हवा थी सँभलना पड़ा मुझे
मैं आख़िरी चराग़ था जलना पड़ा मुझे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *