दुख भी कितनी अजीब …

दुख भी कितनी अजीब चीज है

खुद पर बीते तो सच लगता है

 दूसरों पर बीते तो *ड्रामा*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *