आजमाना अपनी यारी को …

आजमाना अपनी यारी को पतझड़ में…

              दोस्त,....

सावन में तो हर पत्ता, हरा नज़र आता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *