ख्वाहिश

ख्वाइश नहीं है मुझे कुछ पाने की ऐ ज़िंदगी,
जो तू दे देगी कुबूल है मुझे।

यकीन है मुझे तेरे हर फैसले पर,
एक दिन मेरी खामोशियों को तू समझेगी जरूर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *