फ़ासले बेशक रहे त…

फ़ासले बेशक रहे

तेरे मेरे दरम्यान

मन से मन की गुफ्तगू

आठों पहर चलती रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *