तुम्हारी रेशमी ज़ुल्…

तुम्हारी रेशमी ज़ुल्फों में दिल के फूल खिलते थे
कहीं फूलों के मौसम में कभी हम तुम भी मिलते थे
पुरानी वो मुलाक़ातें हमें सोने नहीं देती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *