मैं गया था सोचकर, ब…

मैं गया था सोचकर,
बात बचपन की होगी,

दोस्त मुझे अपनी तरक्की सुनाने लगे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *