चले तो पाँव के नीचे …

चले तो पाँव के नीचे कुचल गई कोई शय,
नशे की झोंक में देखा नहीं कि दुनिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *