जरा सी रंजिश पर, ना …

जरा सी रंजिश पर, ना छोड़
किसी अपने का दामन |
जिंदगी बीत जाती है,
अपनों को अपना बनाने में ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *