नाहक़ हम मजबूरों पर …

नाहक़ हम मजबूरों पर ये तोहमत है मुख़्तारी की
चाहते हैं सो आप करें हैं, हमको अबस बदनाम किया….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *