छुप छुप के कहाँ तक त…

छुप छुप के कहाँ तक तेरे दीदार मिलेंगे,
ऐ पर्दा-नशीं अब सर-ऐ-बाज़ार मिलेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *