हर वक़्त नया चेहरा, …

हर वक़्त नया चेहरा,
…..हर वक़्त नया वजूद।
आदमी ने आईने को
…..हैरत में डाल रखा है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *