जिन्हें फ़िक़र थी कल …

जिन्हें फ़िक़र थी कल की
वे रोए रात भर
जिन्हें यकीन था रब पर
वे सोए रात भर.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *