बचपन भी कमाल का था …

बचपन भी कमाल का था
खेलते खेलते चाहे छत पर सोयें या ज़मीन पर,
आँख बिस्तर पर ही खुलती थी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *