अकेले हम ही शामिल नह…

अकेले हम ही शामिल नहीं हैं इस जुर्म में जनाब, 
नजरें जब भी मिली थी मुस्कराये तुम भी थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *