कितने झूले थे फाँसी …

कितने झूले थे फाँसी पर,
कितनों ने गोली खाई थी,

क्यों झूठ बोलते हैं साहब,
कि चरखे से आजादी आई थी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *