पता नहीं क्या रिश्ता…

पता नहीं क्या रिश्ता था,
टहनी से उस पंछी का..,
उसके उड़ जाने पर
वो कितनी देर कांपती रही…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *