ये जो जिंदगी की किता…

ये जो जिंदगी की किताब है…
ये किताब भी क्या किताब है…
इंसान जिल्द सँवारने में व्यस्त है और
पन्ने बिखरने को बेताब है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *