सोचा था घर बना कर बै…

सोचा था घर बना कर बैठूँगा सुकून से ।
पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *