तुम भी हम को जगाना न…

तुम भी हम को जगाना ना, बाहों में जो सो जाये
जैसे खुशबू फूलों में, तुम में यूँ ही खो जाये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *