दिल में बुराई रखने…

दिल में “बुराई” रखने से बेहतर है, कि “नाराजगी” जाहिर कर दो ।

जहाँ दूसरों को “समझाना” कठिन हो, वहाँ खुद को समझ लेना ही बेहतर है ।

“खुश” रहने का सीधा सा एक ही “मंत्र” है, कि “उम्मीद” अपने आप से रखो, किसी और से नहीं ….Raj saroj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *