नहीं फुर्सत यक़ीन मान…

नहीं फुर्सत यक़ीन मानो हमें कुछ और करने की,
तेरी यादें, तेरी बातें, बहुत मसरूफ रखती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *