तज़ुर्बा है मेरा…….

तज़ुर्बा है मेरा…. मिट्टी की पकड़ मजबूत होती है,

संगमरमर पर तो हमने….. पाँव फिसलते देखे हैं…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *