तु कितनी भी खुबसुरत …

तु कितनी भी खुबसुरत क्यूँ ना हो ए ज़िंदगी
खुशमिजाज़ दोस्तों के बगैर तु अच्छी नहीं लगती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *