वो भाई ही होता है- ज…

वो भाई ही होता है-
जो मन भर आने पर भी आंखों को न बहने दे।
वो भाई ही होता है-
जो दर्द बहन को अकेले न सहने दे।।

वो भाई ही होता है-
जो अनायास कह दे “मैं हूं ना”।
वो भाई ही होता है-
जो छोटी सी खुशी को भी कर दे दूना।।

वो भाई ही होता है-
जो खबर बहन की रखे पल-पल की।
वो भाई ही होता है-
जिसके रहते चिंता न हो कल की।।

वो भाई ही होता है-
जो बात-बात पर टोके, झिड़के,डांटे-डपटे।
वो भाई ही होता है-
जो प्यार करे औरों से कुछ हटके।।

वो भाई ही होता है-
जो मरते दम तक साथ निभाता है।
वो भाई ही होता है-
जो सूत की इक डोरी पर अपनी जान लुटाता है।।

वो भाई ही होता है-
जो पिता और मित्र का मिला जुला रूप है।
वो भाई ही होता है-
जिसके साये में फी़की पड़ती हर धूप है।।

वो भाई ही होता है-
जो बचपन में लड़ता और झगड़ता है।
वो भाई ही होता है-
जो मुट्ठी में चुपके से रुपए रखता है।।

वो भाई ही होता है-
जिससे भाई-दूज और राखी सजते हैं।
वो भाई ही होते हैं-
जो बहन के घर जा कर भात भरते हैं।।

वो भाई ही होता है-
जो प्यारी सी भाभी लाता है।
वो भाई ही होता है-
जो चन्दन सा घर महकाता है।।

वो भाई ही होता है-
जिसके दम पर बहन निडर, निश्चिंत इतरती फिरती है।
वो भाई ही होता है-
जिसके कारण वंश-परंपरा आगे बढ़ती है।।

वो भाई ही होता है-
जिससे मैके का विस्तार है।
वो भाई ही होता है-
जो बहन के अभियान का आधार है।।

सबसे सुंदर,सुदृढ़,सुदीर्घ रिश्ता है संसार का।
कोई विकल्प कभी न मिलेगा भाई-बहन के प्यार का।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *