फ़कीराना तबियत है यार…

फ़कीराना तबियत है यारों अपनी..
मिले तो बाँट देते हैं..!
हमसे दुआओं की जमाखोरी नही होती….!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *