लोग इन्तजार करते रह …

लोग इन्तजार करते रह गये कि हमें टूटा हुआ देखें…

और हम थे कि सहते-सहते पत्थर के हो गये…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *