दौड़ने दो खुले मैदान…

दौड़ने दो खुले मैदानों में,
इन नन्हें कदमों को जनाब .!

जिंदगी बहुत तेज भगाती है,
बचपन गुजर जाने के बाद!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *