Dekhi hai ….

देखी है बेरुखी की… आज हम ने इन्तेहाँ,
हमपे नजर पड़ी तो वो महफ़िल से उठ गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *