ये तो परिन्दों की मा…

ये तो परिन्दों की
मासूमियत है,
वर्ना
दूसरों के घरों में
अब आता जाता कौन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *