भींगने दो जिस्म…

भीगने दो जिस्मो-रूह को बरसते मोतियों से
ये क्या सजा रखी है तुमने यूं छातों की महफिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *