मेरा मजहब तो …

मेरा मजहब तो
ये दो हथेलियाँ बताती है…
जुड़ें तो पूजा,
खुलें तो दुआ
कहलाती हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *