इश्क की अदालत में हा…

इश्क की अदालत में हार मेरी लाज़िमी थी..!
ये नादान दिल मेरा,
पैरवी उसकी करता रहा..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *