जब तक रास्ते समझ में…

जब तक रास्ते समझ में आते है,

तब तक ‘लौटने का वक़्त’ हो जाता है….

यही जिंदगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *