जनाब मत पूछिए हद हमा…

जनाब मत पूछिए
हद हमारी गुस्ताखियों की,
हम आईना ज़मीं पर रखकर
आसमां कुचल दिया करते है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *