गर हौले से मुस्का कन…

गर हौले से मुस्का कनख़ियों से देख लिया
तो बंदा ग़ुलाम औ ता-ज़िंदगी का क़र्ज़ हो गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *