कितना बदलूँ खुद को ज…

कितना बदलूँ खुद को जीने के लिए,
ऐ ज़िन्दगी मुझमेँ थोड़ा तो जिन्दा रहने दे मुझको

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *