बारिश में रख दूँ जिं…

बारिश में रख दूँ जिंदगी को
ताकि धुल जाए पन्नो की स्याही,

ज़िन्दगी फिर से लिखने का
मन करता है कभी-कभी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *