लफ्ज़ों के दाँत नहीं …

लफ्ज़ों के दाँत नहीं होते..!
पर ये काट लेते हैं..!!

दीवारें खड़े किये बगैर..
बाँट देते हैं..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *