बहते पानी की तरह है….

बहते पानी की तरह है…. फितरत- ए-इश्क…

रुकता भी नहीं……थकता भी नहीं…..
थमता भी नहीं…..और मिलता भी नहीं…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *