भटकती है हवस दिन रात…

भटकती है हवस दिन रात
सोने की दुकानों में…
गरीबी कान छिदवाती है
तिनका डाल देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *